..जीत

...........जीत........ प्रतिभा प्रसाद कुमकुम जमशेदपुर
________________

मन के जीते जीत है
मन के हारे हार
कोई जीत कर हारे
कोई हार कर जीता भाये
कहना क्या है यह भी सोचो
और क्या करना है भाय
हार कर जीतने वाला
बाजीगर कहलाए
कोई अपनों के लिए
अपने से हार जाता
ऐ जीत हार क्या है
सुख का क्षणिक भाव
मेरा हो तेरा हो
मन के जीते जीत है
मन के हारे हार. ।।